भिवाड़ी में हिट एंड रन कानून का दिखाई देने लगा असर, यूपी बिहार जाने वाली बसें रद्द

Advertisement
NCRkhabar@Bhiwadi.  केंद्र सरकार (Central Govt.) की ओर से लाये जा रहे हिट एंड रन कानून को लेकर ट्रक चालकों के विरोध का असर औद्योगिक नगरी (Industrial City) व आसपास के इलाकों में दिखाई दे रहा है। फैक्ट्रियों में मॉल भरकर ट्रक खड़े हैं, जबकि यूपी व बिहार (UP-Bihar) जाने वाली बसें रदद्र कर दी गई हैं, जिससे यात्रियों को निराश होकर वापस लौटना पड़ रहा है। वहीं रिलेक्सो चौक पर पथरेड़ी औद्योगिक क्षेत्र से कर्मचारियों को लेकर भिवाड़ी आ रही एक निजी बस को रोक लिया गया, जिसे पुलिस ने आकर रवाना करवाया। यहाँ पर काफी देर तक जाम लगे रहने से पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। उधर अलवर ट्रक ऑनर्स एसोसिएशन ने ज्ञापन देकर कानून को वापस लेने की मांग की है। प्रशासन स्थिति से निपटने के लिए आवश्यक सतर्क है तथा खुफिया एजेंसियां सक्रिय नजर आ रही हैं।
Advertisement
भिवाड़ी के ढाबा कांप्लेक्स पर मॉल भरकर खड़ा ट्रोला।

ट्रकों के पहिये थमने से उद्योगों पर पड़ने लगा असर

औद्योगिक नगरी भिवाड़ी में मंगलवार को ट्रक चालकों के विरोध का असर दिखाई दे रहा है, जिससे उद्योगों से माल भरकर दूसरे राज्यों में जाने वाले ट्रकों के पहिये थम गए हैं। भिवाड़ी में अनेक स्थानों पर माल भरकर ट्रक खड़े हैं, क्योंकि चालक ट्रक लेकर जाने को राजी नहीं है। फिलहाल आवश्यक वस्तुओं पर इसका असर दिखाई नहीं दे रहा है लेकिन आने वाले दिनों में विरोध जारी रहा तो हालात खराब हो सकते हैं। दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 48 पर रोजाना की तरह वाहनों का आवागमन नहीं है, तथा ट्रक मालिक भी तोड़फोड़ के डर की वजह से बाहर ट्रक भेजने से डर रहे हैं।
उधर भिवाड़ी से यूपी व बिहार जाने वाली निजी बसों का संचालन ठप हो गया है। निजी बस संचालकों ने दो सप्ताह के लिए बसों का संचालन रोक दिया है, जिससे सवारियों को वापस घर लौटना पड़ रहा है। खोरी बैरियर से रोजाना चार-पांच बसें यूपी के आजमगढ़ व बलिया तथा बिहार के छपरा व गोपालगंज सहित अन्य स्थानों के लिए जाती हैं लेकिन सोमवार से यहां पर सन्नाटा दिखाई दे रहा है। शिवम ट्रेवल्स के संतोष यादव ने बताया कि यूपी में कई बसों पर पथराव हो चुका है तथा उग्र प्रदर्शन हो रहा है, जिससे बचने के लिए एक सप्ताह तक बसों का संचालन स्थगित कर दिया गया है।

Leave a Comment

Advertisement
चुनाव विकास के आधार पर लड़ा जाना चाहिए या सांप्रदायिकता पर।
  • Add your answer
Advertisement