दिल्ली में प्रसाद चोरी के आरोप में मुस्लिम युवक को खंबे से बांध पीट पीट कर हत्या

NCRkhabar@Delhi. देश की राजधानी दिल्ली के सुंदर नगरी इलाके में इंसानियत को शर्मनाक करने वाली घटना सामने आई है। यहां  प्रसाद चोरी के संदेह में एक 26 वर्षीय युवक को बिजली के खंभे से बांधकर निर्ममतापूर्वक पीटकर हत्या कर दी गई। उधर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने इस शर्मनाक घटना को सांप्रदायिक घटना में हुई हत्या से इंकार किया है। पुलिस ने घटना के सिलसिले में एक नाबालिग़ समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इंडियन एक्सप्रेस ने पुलिस के हवाले से बताया कि सुंदर नगरी में एक युवक गणेश उत्सव के पांडाल में कुछ खाने की उम्मीद में युवक घुसा था, स्थानीय लोगों ने युवक पर प्रसाद चुराने का आरोप लगाते हुए उसे खंभे से बांधकर बेरहमी से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया।

डीसीपी जॉय एन. टिर्की ( Joy N. Tirki) ने कहा कि आरोपियों ने दावा किया कि सुबह 5 बजे के आसपास उन्होंने इसार को इलाके में छिपते हुए पकड़ा और सोचा कि वह चोर है, उन्होंने उससे सवाल पूछे लेकिन  वह ठीक से जवाब नहीं दे सका, फिर उन्होंने उसे बिजली के खंभे से बांध दिया और उसकी पिटाई की। उधर एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में बताया गया है कि पीड़ित के सिर, पीठ, हाथ और पैर सहित पूरे शरीर पर चोट के निशान मिले हैं, मौत का कारण ‘सदमा और रक्तस्राव’ बताया गया है।

घटना के कथित वीडियो में पीड़ित इसार को बिजली के खंभे से बंधा हुआ देखा जा सकता है और लोग उसे लाठियों से पीट रहे हैं। एक व्यक्ति को यह कहते हुए सुना जाता है कि ‘उसे मत मारो’ लेकिन अन्य लोग उन्हें पीटते रहते हैं, जबकि युवक रहम की भीख मांगता है, हमलावरों को पीड़ित को गालियां देते हुए भी सुना जा सकता है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, आरोपी व्यक्तियों द्वारा शूट किए गए वीडियो में दो व्यक्ति कथित तौर पर युवक को लाठियों से पीटते हुए दिखाई दे रहे हैं, जबकि अन्य लोग उन्हें गालियां दे रहे हैं, एक अन्य व्यक्ति मौके से भागने से पहले उनके सिर पर लात मारता हुआ दिखाई दे रहा है, लगभग छह घंटे बाद इसार को घायल अवस्था में घर ले जाया जा सका, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। बहरहाल, शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए इसार के घर के बाहर, घटनास्थल और इलाके में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है।

दिल्ली पुलिस ने सांप्रदायिक एंगल से किया इंकार

पीड़ित के पिता अब्दुल वाजिद ने कहा है कि उनके बेटे, 26 वर्षीय इसार अहमद को भीड़ ने इसलिए मार डाला क्योंकि उसने गणपति स्टाल से प्रसाद खाया था। वहीं पुलिस उपायुक्त (उत्तर पूर्वी दिल्ली) जॉय टिर्की ने मामले में कोई “सांप्रदायिक एंगल” से हत्या होने से इंकार किया है। डीसीपी ने कहा, “उन्होंने उसे इधर-उधर छिपते हुए देखा और सोचा कि वह चोर है. फिर उन्होंने उसे एक खंभे से बांध दिया और उसकी पिटाई कर दी।

छह आरोपी गिरफ्तार, एक नाबालिग है आरोपित

गिरफ्तार किए गए छह लोगों में कमल शामिल है, जो डीजे चलाता है. इसके अलावा मनोज, जो एक दर्जी की दुकान चलाता है और कमल का भाई; यूनुस, जो कमल के साथ उसी डीजे में काम करता है, किशन, एक टेंट हाउस मजदूर; पप्पू, जो एक धागा फैक्ट्री में काम करता है और लकी, जो मोमो स्टॉल चलाता है. सूत्रों ने कहा कि इसमें एक नाबालिग भी है जिसकी उम्र 17 साल है।

डीसीपी ने कहा कि “सभी आरोपियों ने खुलासा किया है कि मंगलवार सुबह लगभग 5 बजे इसार को इलाके में छिपते हुए पकड़ा था. उन्हें लगा कि वह चोर है. उन्होंने उससे सवाल पूछना शुरू किया लेकिन मानसिक रूप से विक्षिप्त होने के कारण वह ठीक से जवाब नहीं दे सका. फिर उन्होंने उसे बिजली के खंभे से बांध दिया और उसकी पिटाई की। पुलिस मामले की जांच कर रही है।”

 

Leave a Comment