दिल्ली में किसका होगा राजतिलक..देखिए आजतक का हेलिकॉप्टर शॉट

NCRkhabar.com. लोकसभा चुनाव (Parliament Election) में देश की निगाहें राजधानी दिल्ली (Delhi) पर जाकर टिक गई है। देश की नीति और नियति को तय करने वाली राजधानी में इस बार का मुकाबला दिलचस्प होने वाला है। क्योंकि एक तरफ आम आदमी पार्टी (Aap) और कांग्रेस (Congress) का गठबंधन है तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी मैदान में अकेले ताल ठोक रही है। इसके साथ ही अब यह साफ हो गया है कि दिल्ली के मतदाता 25 मई को अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

दिल्ली 7 सीटों पर काबिज है भाजपा

दिल्ली की 7 सीटों पर फिलहाल बीजेपी का कब्जा है। इस बार लोकसभा चुनाव काफी रोमांचक हो सकता है। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस एक साथ बीजेपी का मुकाबला करने के लिए चुनावी मैदान में है। वहीं बीजेपी ने सात में छह उम्मीदवार बदल दिए हैं। माना जा रहा है कि दिल्ली की सभी सीटों पर बीजेपी और I.N.D.I.A गठबंधन के बीच कड़ी टक्कर मिल सकती है।

 

 चार सीटों पर आप व तीन पर लड़ रही है कांग्रेस

आम आदमी पार्टी दिल्ली की 4 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जिसमें नई दिल्ली सीट से सोमनाथ भारती, पूर्वी दिल्ली- हर्ष मल्होत्रा, दक्षिणी दिल्ली – सहीराम पहलवान जबकि पश्चिमी दिल्ली- महाबल मिश्रा चुनाव मैदान में हैं। वहीं कांग्रेस पार्टी ने जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को नॉर्थ ईस्ट दिल्ली से उम्मीदवार बनाया है। इसके अलावा जेपी अग्रवाल को चांदनी चौक और कांग्रेस के दिग्गज नेता उदित राज को उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट से मौका दिया है।

गौरतलब है कि भाजपा ने इस बार दिल्ली में छह नए चेहरे चुनाव में उतारे हैं. इनमें चांदनी चौक से व्यापारी नेता प्रवीण खंडेलवाल, नई दिल्ली से बांसुरी स्वराज, पश्चिमी दिल्ली से पूर्व मेयर कमलजीत सेहरावत, दक्षिणी दिल्ली से रामवीर सिंह बिधूड़ी, उत्तर पश्चिमी दिल्ली से योगेंद्र चंदोलिया व पूर्वी दिल्ली से हर्ष मल्होत्रा हैं. उत्तर-पूर्वी दिल्ली से पार्टी ने एक बार फिर मनोज तिवारी पर भरोसा जताया है.
क्या कहती है दिल्ली की जनता? आम आदमी का भरोसा किस पर है? दिल्ली के दिल में कौन? किन बड़े मुद्दों पर होगा इस बार का चुनाव? जनता और नेताओं का मूड जानने के लिए आजतक की टीम सीनियर एंकर अंजना ओम कश्यप के साथ पहुंच गई दिल्ली अपने ख़ास चुनावी चुनावी शो ‘हेल‍िकॉप्टर शॉट’ के साथ।

सवाल जवाब का सिलसिल शुरू हुआ। अंजना से सबसे पहला सवाल बीजेपी नेता आशीष सूद से दागा..पूछा आपको जनता 7 की सात सीटें क्यों दें..आशीष ने जवाब दिया..क्योंकि मोदी सरकार ने अच्छा काम किया है। इस सरकार में पारदर्शिता है। ये मोदी की गारंटी है..देश के विकास की गारंटी है..देश को आगे ले जाने की गारंटी है।
अगला सवाल आम आम पार्टी के प्रवक्ता संजीव झा से किया गया..सवाल था कि सीएम केजरीवाल जेल में हैं..तो आपकी सरकार बेहतर तरीके से कैसे चल पाएगी। किसी और नेता को सीएम क्यों नहीं बना देते। इस पर संजाव झा ने जवाब दिया..दिल्ली दिलवालों की नगरी है। यहां की जनता को अच्छे-बुरे की पहचान है। तीन बार विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के पक्ष में वोट देकर सरकार बनवाना ये मजाक नहीं है। दिल्ली में विकास हुआ है और वो आम आदमी पार्टी ने किया है। सीएम केजरीवाल ने कभी समझौता नहीं किया।
अब सवाल कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता, अजय उपाध्याय से था। केजरीवाल जेल से कैसे सरकार चलाएंगे..उन्होंने जवाब दिया। दिल्ली की जनता जानती है कि किसने संविधान को ताक पर रखकर दिल्ली के साथ खिलवाड़ किया। किसने संविधान से छेड़छाड़ की कोशिश की।

दिल्ली का सियासी समीकरण जानिए

नई दिल्ली लोकसभा सीट: यहां भाजपा प्रत्याशी बांसुरी स्वराज और आम आदमी पार्टी के सोमनाथ भारती के बीच मुकाबला होगा. पूर्व केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज प्रसिद्ध वकील हैं. सोमनाथ भारती आम आदमी पार्टी के विधायक हैं व पेशे से वकील भी रहे हैं।

 

 

 

Leave a Comment